मोदी की गारण्टी वाली वैन द्वारा कुल 7 स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित, पीएम ने लाभार्थियों से की बातचीत

मोदी की गारण्टी वाली वैन द्वारा कुल 7 स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित, पीएम ने लाभार्थियों से की बातचीत

सनशाइन समय बस्ती से मनीष मिश्र की रिपोर्ट

बस्ती। बस्ती जनपद में चल रहे मोदी की गारण्टी वाली वैन द्वारा कुल 7 स्थानों पर कार्यक्रम कार्यक्रम हुए। बलुआ चौबे में आयोजित कार्यक्रम में जिलाध्यक्ष विवेकानन्द मिश्र मुख्य अतिथि के रूप में सम्मलित हुए। वही ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि जटा शंकर शुक्ल, जिला कार्यक्रम संयोजक अमृत कुमार वर्मा, वरुण पाण्डेय ने अपने विचार रखे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विकसित भारत संकल्प यात्रा के लाभार्थियों से बातचीत की। लाभार्थियों से बातचीत में प्रधानमंत्री मोदी ने देश के सभी नागरिकों को पोषण और स्वास्थ्य गारंटी उपलब्ध कराने की अपनी सरकार की प्रतिबद्धता दोहराई। इसी क्रम में जिलाध्यक्ष ने दीवाल लेखन के अभियान का सुभारम्भ भी किया।
भाजपा जिलाध्यक्ष विवेकानन्द मिश्र ने कहा कि विकसित भारत संकल्प यात्रा का उद्देश्य कल्याणकारी योजना का लाभ लोगों के द्वार तक पहुंचाना है। उन्होंने जोर देकर कहा कि भारत को 2047 तक विकसित बनाने के लिए केन्द्र सरकार प्रतिबद्ध है, यह मोदी की गारंटी वाली सरकार है। इस दौरान श्री मिश्र ने उपस्थित लोगों के साथ मा. प्रधानमंत्री मोदी जी के विकसित भारत की संकल्पना पर प्रेरणादायी संबोधन को सुना तथा 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र बनाने के लिए संकल्प लिया गया। जिलाध्यक्ष ने कहा कि 15 नवम्बर से शुरू ‘विकसित भारत संकल्प यात्रा’ के दूसरे चरण की समाप्ति 25 जनवरी 2024 होगी। विकसित भारत संकल्प यात्रा का मकसद जिनके लिए योजनाएं हैं उन तक उसका लाभ पहुंचाना है।
ब्लाक प्रमुख जटाशंकर शुक्ल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गारंटी का परिणाम है कि देश के करीब 25 करोड़ लोग बहुआयामी गरीबी से बाहर निकले हैं। उन्होंने विकास योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि आज तक किसी सरकार ने शौचालय के विषय में सोचा नहीं था, जबकि आज 12 करोड़ शौचालय, आठ करोड़ महिलाओं को उज्ज्वला योजना का लाभ मिला। पूरे देश में 80 करोड़ लोगों को मुफ्त खाद्यान्न दिया जा रहा है। इस कार्यक्रम में राधेश्याम कमलापुरी, अमित शुक्ल शुक्ल सहित कई गणमान्य लोग के अलावा बड़ी संख्या में लाभार्थी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *