ऑनलाइन उपस्थिति के विरोध में सफाई कर्मियोें ने सौंपा ज्ञापन

ऑनलाइन उपस्थिति के विरोध में सफाई कर्मियोें ने सौंपा ज्ञापन

सनशाइन समय बस्ती से मनीष मिश्रा की रिपोर्ट

बस्ती। शुक्रवार को उत्तर प्रदेश पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ पदाधिकारियों ने जिलाध्यक्ष अजय कुमार आर्य के नेतृत्व में जिला पंचायत राज अधिकारी और उनके माध्यम से अपर मुख्य सचिव पंचायती राज विभाग को ज्ञापन सौंपा। मांग किया कि सफाई कर्मचारियों की ऑनलाइन उपस्थिति पर पुर्नविचार कर इस निर्णय को स्थगित किया जाय।
अमहट से पद यात्रा करते हुये विकास भवन पर जिला पंचायत राज अधिकारी को ज्ञापन देने के बाद संघ अध्यक्ष अजय कुमार आर्य ने कहा कि ग्रामीण सफाई कर्मचारी फील्ड का कर्मचारी है जिससे उसकी ड्यूटी अपनी नियुक्ति ग्राम पंचायत के साथ-साथ अन्य स्थानों पर समय-समय पर लगती रहती है, ऐसे में इनकी उपस्थिति कैसे प्रमाणित होगी। साथ ही पंचायत भवन खुलने का समय लगभग 10 बजे का है जबकि सफाई कर्मचारियों की ड्यूटी का समय ग्रीष्मकाल में प्रातः 7 बजे से दोपहर 2 बजे तथा शीतकाल में प्रातः 8 बजे से दोपहर 3 बजे तक है। इसके साथ ही पंचायत भवन सहायकों के न आने अथवा अवकाश पर रहने के दौरान उपस्थिति दर्ज नहीं हो पायेगी। ग्राम पंचायतों में मजरे होने तथा मजरों से पंचायत भवन का अत्यधिक दूरी होने पर इनकी उपस्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा तथा सफाई कार्य भी प्रभावित होगा। वर्तमान में सफाई कर्मचारियों के सफाई कार्य के अलावा अन्य कार्य भी सम्पादित कराये जा रहे है जैसे बी० एल०ओ०, जनगणना, निर्वाचन कार्य, अन्य सर्वे, सांड़ पकड़ना, गौशाला में ई०वी०एम० रख-रखाव, ड्राइवर, रसोईया, अर्दली, चपरासी, माली, कम्प्यूटर कार्य आदि भी लिये जा रहे है। ऐसी स्थिति में सफाई कर्मचारियों की ऑनलाइन उपस्थिति का निर्णय अव्यवहारिक है। इसे लागू न किया जाय।
राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के कार्यवाहक अध्यक्ष राम अधार पाल ने कहा कि उच्च न्यायालय के आदेश के बाद भी सैकड़ो सफाई कर्मचारी विकास खण्ड, तहसील, जनपद, मण्डल, प्रदेश स्तर, शासन आवासों एवं कार्यालयों में सम्बद्ध है। जिसके कारण सफाई कर्मचारियों की ऑनलाइन उपस्थिति में उन्हें अनेकों प्रकार की कठिनायों का सामना करना पड़ेगा साथ ही कर्मचारियों के मानसिक व आर्थिक शोषण को बल व बढ़ावा मिलेगा। उन्होने आवाहन किया कि आगामी 21 सितम्बर के धरना प्रदर्शन में सफाई कर्मी बढ चढकर हिस्सा लेें। उनके मुद्दे को भी परिषद प्राथमिकता से उठायेगा।
उत्तर प्रदेश पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ के जिला मंत्री मनोज चौहान, जिला कोषाध्यक्ष पेशकार, संगठन मंत्री राम कृपाल चौधरी, जिला लेखा सम्प्रेक्षक अमित चक्रवर्ती, प्रदेश उपाध्यक्ष राजेश कुमार, कर्मचारी नेता अतुल कुमार पाण्डेय आदि ने कहा कि सफाई कर्मचारियों की ऑनलाइन उपस्थिति का निर्णय पूरी तरह से अव्यवाहारिक है। इसे लागू न किया जाय।
ज्ञापन सौंपने वालों में शिवमंगल पाण्डेय, बलराम यादव, मो. कलीम, बजरंगी, शिव कुमार यादव, हनुमान शरण, सुरेश कुमार, अशोक दूबे, प्रदीप कुमार, मुकेश यादव, सुधीर कुमार, राघव प्रसाद, भरतराम, जितेन्द्र कुमार गौतम, तुलसीराम, महेन्द्र कुमार, अनिल कुमार, सूर्य प्रकाश पाण्डेय, जसवन्त कुमार, विश्वम्भरनाथ, समयदीन यादव, मंशाराम, अवधेश कुमार के साथ ही अनेक सफाईकर्मी और संघ पदाधिकारी शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *