विशेष संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियान 03 से 31 अक्टूबर के मध्य होगा संचालित – सीडीओ

विशेष संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियान 03 से 31 अक्टूबर के मध्य होगा संचालित – सीडीओ

– अभियान के दौरान नालियों की सफाई एवं फागिंग, झाड़ियों की सफाई कराना सुनिश्चित करें

सनशाइन समय बस्ती से मनीष मिश्र की रिपोर्ट

बस्ती। विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान 03 से 31 अक्टूबर तथा दस्तक अभियान 16 से 31 अक्टूबर तक संचालित किया जाएगा। मुख्य विकास अधिकारी जयदेव सीएस ने इसके संबंध में विभागीय अधिकारियों को पूरी तैयारी करने का निर्देश दिया है। कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित तैयारी बैठक में उन्होंने कहा कि अभियान में नामित सभी विभाग आपसी समन्वय से चरणवार पूरी कार्यवाही सम्पन्न करायें।
उन्होने कहा कि चिकित्सा एंव स्वास्थ्य विभाग इस अभियान का नोडल विभाग होंगा, जो जनपद, तहसील, ब्लाक एवं ग्राम स्तर पर विभागीय अधिकारियों के बीच समन्वय स्थापित करके अभियान संचालित करेंगा। अभियान के दौरान बुखार, इन्फ्लुएन्जा लाइक इलनेश (आईएलआई), क्षय रोग तथा कुपोषित बच्चों के प्राप्त सूची के अनुसार रोगियों का उपचार किया जायेंगा। विभाग द्वारा अभियान की मानीटरिंग, पर्यवेक्षण, रिपोर्टिंग, अभिलेखीकरण तथा विश्लेषण किया जायेंगा।
सीडीओ ने सभी अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत एवं नगर पालिका को निर्देशित किया है कि साफ सफाई पर विशेष ध्यान दें, अभियान के दौरान नालियों की सफाई एवं फागिंग, झाड़ियों की सफाई कराना सुनिश्चित करें। नियमित रूप से कूड़ों का निस्तारण कराएं तथा पेयजल की जांच कराते रहें, समय-समय पर इसका क्लोरोनाइजेशन भी कराएं।
उन्होने कहा कि पंचायती राज विभाग द्वारा ग्राम स्तर पर साफ-सफाई, हाथ धोना, शौचालय की सफाई तथा जल निकासी की व्यवस्था करायी जाय। ग्राम स्तर पर ग्राम प्रधान अभियान के नामित नोडल आगनबाड़ी कार्यकत्री, आशा के कार्यो में सहयोग प्रदान करेंगे। वी0एच0एस0एन0सी0 के माध्यम से संचारी रोगो तथा दिमागी बुखार के रोकथाम के लिए सघन प्रचार-प्रसार कराया जायेंगा। उथले हैण्डपम्प को लाल रंग से चिन्हित किया जायेंगा, खराब इण्डिया मार्क टू हैण्डपम्प ठीक कराया जायेंगा, जलाशय एवं नालियों की सफाई करायी जायेंगी, झाड़ियों की काट-छाट किया जायेंगा तथा मैलाथियान से फॉगिग करायी जायेंगी। गॉव में भी कूडेदान की व्यवस्था की जायेंगी।
उन्होने कहा कि पशुपालन विभाग सूकर पालको को अन्य व्यवसाय जैसे पोल्ट्री उद्योग को अपनाने के लिए प्रेरित करेंगे। सूअरबाड़ो पर वेक्टर नियंत्रण एंव सीरो सर्विलेन्स की व्यवस्था करायेंगें। सूअरबाड़े आबादी से दूर स्थापित किए जायेंगे। सूअरबाडो की नियमित सफाई करायी जायेंगी तथा कीटनाशक का छिड़काव किया जायेंगा। सभी प्रकार के पशुबाड़ो की स्वच्छता, कचरा निस्तारण तथा मच्छररोधी जाली के प्रयोग के लिए पशुपालको को प्रेरित किया जायेंगा।
उन्होने कहा कि आगनबाड़ी कार्यकत्री वी0एच0एस0एन0डी0 की बैठक कराकर कुपोषित बच्चों को चिन्हित करके उन्हें पोषाहार का वितरण करेंगी। बेसिक शिक्षा विभाग अभिभावको एंव शिक्षको का व्हाट्सएप गु्रप बनाकर दिमागी बुखार एवं अन्य संचारी रोग से बचाव, रोकथाम एंव उपचार के लिए प्रशिक्षण एवं जरूरी जानकारी दिया जायेंगा। उन्हें क्लोरीनेशन डेमो, पेयजल को उबालना, साबुन से हाथ धोना, शौचालय का प्रयोग करने के लिए जागरूक किया जायेंगा।
उन्होने कहा कि एईएस व जेई रोग से दिव्यांग हुए बच्चों का सर्वे कराया जायेंगा। डीडीआरसी सेण्टर द्वारा उनका उपचार किया जायेंगा तथा सहायक उपकरण विभाग द्वारा उपलब्ध कराये जायेंगे। कृषि एवं सिचाई विभाग एकत्र हुए पानी में मच्छरों के प्रजनन को रोकने तथा सिचाई के वैकल्पिक उपाय पर अपनी तकनीकी सलाह देंगा। उद्यान विभाग मच्छररोधी पौधे लगायेगा। नहरो तथा तालाबों के किनारे अवान्छित वनस्पतियों को साफ करायेगा। सूचना विभाग सभी गतिविधियों का जनमानस में व्यापक प्रचार-प्रसार करायेंगा।
बैठक का संचालन मलेरिया अधिकारी आई.ए.अंसारी ने किया। बैठक में सीएमओ डॉ0 आर.पी. मिश्रा, डीडीओ निर्मल द्विवेदी, एसीएमओ डा. ए.के. मिश्रा, डा. एन.एन. प्रसाद, सीएमएस डा. पी.के श्रीवास्तव, डा. अजीत कुशवाहा, डीआईओएस जगदीश शुक्ला, बीएसए अनूप तिवारी, सभी बीडीओ, प्रभारी चिकित्सा अधिकारीगण एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *